हरियाणा की नायब सिंह सैनी सरकार शक्ति परीक्षण में पास, पक्ष में पड़े इतने वोट

चण्डीगढ़

हरियाणा के नए मुख्यमंत्री नायब सिंह सैनी (Naib Singh Saini) ने विधानसभा में बहुमत हासिल कर लिया है। नायब सरकार के बहुमत परीक्षण का प्रस्ताव ध्वनि मत से पारित किया गया। विश्वास प्रस्ताव पेश करने के बाद हरियाणा विधानसभा को संबोधित करते हुए, हरियाणा के नए सीएम नायब सिंह सैनी ने आज पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर की जमकर तारीफ की। सैनी ने कहा कि उन्होंने “हरियाणा में शासन में सुधार के लिए मिशन मोड” में काम किया। इससे पहले मंगलवार को उन्होंने राज्यपाल को 48 विधायकों के समर्थन का पत्र सौंपा था।

भाजपा को 48 का समर्थन

हरियाणा विधानसभा में बहुमत के लिए 46 विधायक चाहिए। भाजपा ने 48 विधायकों के साथ बहुमत हासिल किया है। इनमें से 41 विधायक भाजपा के हैं। जबकि उसे सात निर्दलीय विधायकों में से छह के साथ-साथ हरियाणा लोकहित पार्टी के एकमात्र विधायक गोपाल कांडा का भी समर्थन प्राप्त है।

 मनोहर लाल खट्टर के अपने कैबिनेट मंत्रियों के साथ पद से अचानक इस्तीफे के कुछ घंटों बाद मंगलवार को सैनी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। राज्य की 90 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा के 41 सदस्य हैं और उसे सात निर्दलीय विधायकों में से छह के साथ-साथ हरियाणा लोकहित पार्टी के एकमात्र विधायक गोपाल कांडा का भी समर्थन प्राप्त है। मंगलवार को भाजपा विधायक दल की बैठक के बाद पार्टी विधायक सुभाष सुधा और जे पी दलाल ने घोषणा की थी कि सैनी राज्य के नए मुख्यमंत्री होंगे। 54 वर्षीय सैनी को खट्टर का करीबी माना जाता है। सैनी के साथ भाजपा के चार और एक निर्दलीय विधायक ने मंत्री पद की शपथ ली। भाजपा के कंवर पाल, मूलचंद शर्मा, जय प्रकाश दलाल व बनवारी लाल और निर्दलीय विधायक रणजीत सिंह चौटाला ने मंत्री पद की शपथ ली। ये पांचों निवर्तमान खट्टर मंत्रिमंडल में मंत्री थे। जननायक जनता पार्टी (जजपा) के दुष्यंत चौटाला, दविंदर बबली और अनूप धानक खट्टर मंत्रिमंडल में अन्य मंत्री थे।