चुनौतियों के आगे सिर न झुकाएं अफसर, प्रदेश को नं-1 बनाएं

भोपाल

रामभक्ति के बाद अब देश राष्ट्रभक्ति में डूबा है। कल होने वाले गणतंत्र दिवस समारोह की देश भर में तैयारियां की जा रही हैं। मध्यप्रदेश में यह गणतंत्र महोत्सव खास होने जा रहा है। मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने आज एमपी पीएससी से चयनित उम्मीदवारों को नियुक्ति पत्र बांटे। दूसरी ओर मध्यप्रदेश के 26 पुलिस अधिकारियों और जवानों को राष्ट्रपति का पुलिस पदक मिलने जा रहा है। इसके अलावा नक्सलियों को मार गिराने वाले तीन पुलिस अफसर और जवानों को राष्ट्रपति का वीरता पदक दिए जाने का ऐलान किया गया है।

मुख्यमंत्री डॉ.मोहन यादव ने सिविल सेवा में चयनित अधिकारियों से कहा है कि वे चुनौतियों के आगे सिर नहीं झुकाएं और सुशासन की स्थापना में सहयोग कर प्रदेश को नंबर वन बनाए। समाज के आखिरी व्यक्ति के जीवन में बदलाव आना चाहिए। सीएम ने गुरुवार को मध्यप्रदेश सिविल सेवा के वर्ष 2019 एवं वर्ष 2020 के लिये चयनित 686 अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किए। इस अवसर पर सीएम ने अफसरों से कहा कि तकनीकी के हर क्षेत्र में हमें दक्षता हासिल करना चाहिए। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी जी ने कई सारी भाषाओं को सीखाा।  प्रधानमंत्री तकनीकी के हर क्षेत्र का इस्तेमाल करते है। उन्होंने आदि शंकराचार्य का जिक्र करते हुए कहा कि उनकी शैली हमें सौ फीसदी अपने कार्य के प्रति दक्ष बनाती है।

इस मौके पर सीएम ने अधिकारियों से सुशासन की प्रक्रिया पर संवाद किया और उन्हें सतत विकास के लक्ष्य, गुड गर्वनेंस और राज्य सरकार के विकास विजन से परिचित कराया। अभ्यर्थियोें ने भी सीएम से सवाल किए जिनके उन्होंने रोचक जवाब दिए। सीएम ने कहा कि वर्षों की तपस्या से आप इस मुकाम पर पहुंचे हैं। यह नियुक्ति पत्र नहीं बल्कि विश्वास पत्र है। प्रदेश में सुशासन की स्थापना करने में आप लोग सहयोग करें। सीएम ने कहा कि अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा से एक तरह से देश में सुशासन की प्राण प्रतिष्ठा हुई है।

सीएम ने जिन अधिकारियों को नियुक्ति पत्र प्रदान किए गए उनमें कुल 686 चयनित अभ्यर्थियों में 187 अनारक्षित, 157 अन्य पिछड़ा वर्ग, 110 अनुसूचित जाति, 150 अनुसूचित जनजाति एवं 82 आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के अभ्यर्थी शामिल है। नवागत अधिकारी वाणिज्यिक कर विभाग (वाणिज्यिक कर, पंजीयन, आबकारी), वित्त विभाग, कार्मिक विभाग, राजस्व विभाग, स्कूल शिक्षा, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, गृह विभाग, नगरीय प्रशासन विभाग, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, श्रम विभाग, जनसम्पर्क विभाग, जनजातीय कार्य विभाग, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग, सहकारिता विभाग एवं जेल विभाग में पदस्थ किए जाएंगे। सीएम ने अफसरों से कहा आप लोग आगे बढ़ना चाहते है उसमें मै पूरा सहयोग करुंगा।