रोहित ने हैदराबाद टेस्ट से पहले बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा- वैसे, मैं वीजा दफ्तर में बैठकर फैसले नहीं लेता, पर उम्मीद है की वे खेलेंगे 

नई दिल्ली 
इंग्लैंड के युवा स्पिनर शोएब बशीर को पांच टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारत का वीजा मिलने में देरी हो रही है। बशीर को इसकी वजह से यूएई से इंग्लैंड वापस लौटना पड़ रहा है। वह हैदराबाद में गुरुवार से शुरू हो रहे पहले टेस्ट से बाहर हो चुके हैं। बशीर को वीजा नहीं मिलने पर इंग्लैंड के कप्तान बेन स्टोक्स ने नाखुश नजर आए। वहीं, भारतीय टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने जल्द ही बशीर का वीजा से संबंधित मसला हल होने की उम्मीद जताई। हालांकि, रोहित ने दो टूक कहा कि वह वीजा ऑफिस में नहीं बैठते। 29 वर्षीय बशीर पाकिस्तानी मूल के हैं।

रोहित ने हैदराबाद टेस्ट से पहले बुधवार को प्रेस कांफ्रेंस में कहा,'' वह (बशीर) पहली बार यहां आ रहा है।वैसे, मैं वीजा दफ्तर में बैठकर फैसले नहीं लेता लेकिन मुझे उम्मीद है कि वह आकर खेल सकेगा।'' बशीर को लंदन में भारतीय उच्चायोग से मंजूरी मिलने की उम्मीद है मगर इस घटनाक्रम से स्टोक्स चिढ़ गए हैं। उन्होंने कहा, ''बतौर कप्तान मुझे हताशा हो रही है । हमने दिसंबर में ही टीम का ऐलान कर दिया था और अब बशीर को वीजा नहीं मिला । इन हालात का सामना करने वाला वह पहला क्रिकेटर नहीं है। मैने ऐसे कई खिलाड़ियों के साथ खेला है जिन्हें ऐसे हालात का सामना करना पड़ा है।''

गौरतलब है कि पिछले साल आस्ट्रेलिया के ओपनर उस्मान ख्वाजा को भी भारत का वीजा मिलने में देरी हुई थी। पाकिस्तानी मूल के साकिब महमूद 2019 में भारत ए के खिलाफ सीरीज के लिए नहीं आ पाए थे।  बशीर इंग्लिश काउंटी टीम समरसेट के लिए खेलते हैं। उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में छह मैचों में 10 विकेट लिए हैं। उन्होंने कोई इंटरनेशनल मैच नहीं खेला है। स्टोक्स ने कहा, ''मैं नहीं चाहता था कि इंग्लैंड टेस्ट टीम में उसका पहला अनुभव इस तरह का होगा। वह काफी युवा है और मैं उसके लिए दुखी हूं।''