नर्सिंग कॉलेजों की मान्यता को लेकर योगी सरकार का आदेश

लखनऊ
 
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश के सभी नर्सिंग कॉलेजों की रेटिंग कराई जाएगी। नर्सिंग व पैरा मेडिकल ट्रेनिंग के बाद युवाओं को तत्काल रोजगार मिल जाएगा। इसके लिए  पांच नर्सिंग संस्थानों का अस्पतालों के साथ करार भी किया गया है। उन्होंने कालेज में फैकल्टी , लेबारेटरी व अन्य मानकों पर खरे उतरने वाले नर्सिंग कॉलेजों को मान्यता दी जाए। किसी की सिफारिश सुनने की जरूरत नहीं है।

सीएम ने यह बातें शनिवार को एसजीपीजीआई परिसर में मिशन निरामया अभियान का औपचारिक शुभारंभ करते हुए कहीं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 90 के दशक में कॅरियर के लिहाज से अगर आईटी सेक्टर सबसे प्राइम माना जाता था तो आज के दौर में नर्सिंग और पैरामेडिकल क्षेत्र शानदार अवसरों से भरा है।  इस सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्र में बहुआयामी सुधार के लिए 'मिशन निरामयाः' की शुरुआत कर रही है।
 
गुणवत्ता सुधार के लिए 12 कॉलेज मेंटॉर नियुक्त
 मुख्यमंत्री ने कहा कि गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण के नहीं होने का ही परिणाम रहा कि नर्सिंग स्टाफ के लिए राज्य सरकार ने 4700 पदों पर भर्ती निकाली। आवेदन आये 1 लाख 2 हजार लेकिन पास हुए केवल 3 फीसदी अभ्यर्थी। नियुक्ति लायक 2200 ही मिले।  12 संस्थानों का चयन कर उन्हें मेंटॉर बनाया जा रहा है। यह संस्थान अन्य नर्सिंग कॉलेजों को बेहतर होने के लिए मार्गदर्शन कराएंगे। संस्थानों की रेटिंग के लिए क्वालिटी कंट्रोल ऑफ इंडिया से करार हुआ है। हर संस्थान की गुणवत्ता का प्रमाणन कराया जाएगा। प्रदेश में सबसे अच्छी पैरामेडिकल व नर्सिंग की ट्रेनिंग मिलेगी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *