UP को हरित ऊर्जा क्षेत्र में मिला 19 हजार करोड़ के निवेश का प्रस्ताव

लखनऊ
 उत्तर प्रदेश सरकार के नवीकरणीय ऊर्जा कार्यक्रम को आगे बढ़ाने की दिशा में बड़ी सफलता मिली है। अधिकारियों का दावा है कि निजी क्षेत्र की फर्मों ने राज्य के हरित ऊर्जा क्षेत्र में लगभग 19,000 करोड़ रुपये का निवेश करने का प्रस्ताव दिया है। इनमें ग्रीनको और जेएसडब्ल्यू ग्रुप द्वारा विभिन्न अक्षय ऊर्जा परियोजनाओं में क्रमश: लगभग 13,000 करोड़ रुपये और 5,900 करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव शामिल हैं। यह पहली बार है कि उत्तर प्रदेश सरकार को नवजात घरेलू हरित ऊर्जा क्षेत्र में इतने बड़े निवेश प्रस्ताव मिले हैं। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य 2030 तक अक्षय ऊर्जा में 450 गीगावाट (जीडब्ल्यू) और गैर-जीवाश्म ऊर्जा क्षमता में 500 गीगावाट हासिल करने के केंद्र के व्यापक लक्ष्य के साथ आगे बढ़ रहा है। यह प्रयास अंतरराष्ट्रीय जलवायु को पूरा करने के लिए भारत की प्रतिबद्धता का हिस्सा है। हरित ऊर्जा भविष्य में कार्बन उत्सर्जन को कम करने और पर्यावरण प्रदूषण को रोकने में प्रमुख भूमिका निभाएगा।

अगले साल मेगा यूपी ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट 2023 के लिए, योगी आदित्यनाथ सरकार हरित ऊर्जा सहित कई क्षेत्रों में निजी क्षेत्र की कंपनियों को लुभाने के प्रयास में जुटी हुई है। जनवरी 2023 में होने वाली इस समिट में घरेलू और बहुराष्ट्रीय कंपनियों (एमएनसी) से नए निवेश प्रस्तावों में 10 लाख करोड़ रुपये शुद्ध करने का लक्ष्य रखा गया है।

ग्लोबल समिट के लिए कई देशों में रोड शो की तैयारी
शिखर सम्मेलन के लिए गति बनाने के लिए, राज्य ने अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, संयुक्त अरब अमीरात, स्वीडन, सिंगापुर, नीदरलैंड, इज़राइल, फ्रांस, जर्मनी, दक्षिण कोरिया और ऑस्ट्रेलिया सहित प्रमुख देशों में रोड शो आयोजित करने की योजना बनाई है। पिछले छह महीनों में, राज्य ने बहुराष्ट्रीय कंपनियों सहित 55 निजी क्षेत्र की कंपनियों से 45,000 करोड़ रुपये के कुल निवेश प्रस्ताव प्राप्त करने का दावा किया है। इनमें हरित ऊर्जा क्षेत्र की परियोजनाएं शामिल हैं।

निजी कंपनियों से मिल रहे निवेश के प्रस्ताव
उदाहरण के लिए, कॉसिस ग्रुप ने ग्रीन मास ट्रांजिट प्रोजेक्ट्स में 6,000 करोड़ रुपये का निवेश करने का प्रस्ताव दिया है, जबकि वरुण बेवरेजेज चार अलग-अलग बेवरेज प्रोजेक्ट्स में लगभग 3,600 रुपये का निवेश करेगा। इसी तरह, जेके पेंट्स और कीयान डिस्टिलरीज अपनी परियोजनाओं में क्रमश: 600 करोड़ रुपये और 500 करोड़ रुपये का निवेश करेंगी।

पांच सालों में 95 हजार करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले
सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) और इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र ने पिछले पांच वर्षों में लगभग 95,000 करोड़ रुपये के अधिकतम निवेश प्रस्तावों को हासिल किया है। इनमें लगभग 20,000 करोड़ रुपये के कुल निवेश प्रोफाइल के साथ डेटा सेंटर स्पेस में सात परियोजनाएं शामिल हैं। जबकि पांच परियोजनाओं को मंजूरी दे दी गई है, शेष दो को जल्द ही राज्य कैबिनेट की मंजूरी मिलने की उम्मीद है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *