छत्तीसगढ़ रायपुर

शिक्षकों की कमी के साथ टेकारी स्कूल में मनाया गया शाला प्रवेशोत्सव

रायपुर
विकास खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय आरंग के अधीन आने वाले शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला में उच्चतर,  उच्च, पूर्व माध्यमिक व प्राथमिक शाला में शिक्षकों की कमी के साथ शासन के निर्देश पर शाला प्रवेशोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर नवप्रवेशी विद्यार्थियों का तिलक लगा स्वागत करने व मुंह मीठा कराने के साथ पाठ्य पुस्तक का वितरण किया गया।

कार्यक्रम का प्रारंभ सरस्वती वंदना व पूजा पश्चात राष्ट्रीय गान व राजगीत के साथ प्रारंभ हुआ। आसंदी पर मौजूद शाला विकास समिति के अध्यक्ष हुलास राम वर्मा ने स्वामी विवेकानंद के जीवन प्रसंग साझा करते हुये विद्यार्थियों को इससे प्रेरणा ले भविष्य संवारने की सीख दी। ग्रामीण सभा अध्यक्ष रामानंद पटेल ने अध्ययनरत विद्यार्थियों के हित में शिक्षकों की कमी दूर करने बीते कई वर्षों से ग्रामीण सभा के आर्थिक सहयोग की याद दिलाते हुये विद्यार्थियों से शिक्षा के प्रति गंभीर रह ग्रामीण योगदान का सम्मान रखने का आग्रह किया। सरपंच नंदकुमार यादव ने पंचायत द्वारा हरसंभव सहयोग का आश्वासन देते हुये विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

ग्राम के ही निवासी किसान संघर्ष समिति के संयोजक भूपेन्द्र शर्मा ने विद्यालय में हर कीमत पर अनुशासन बनाये रखने के लिये प्रतिबद्धता दिखलाने का आग्रह करते हुये विद्यार्थियों व उनके पालकों से दो टूक कहा कि अनुशासन बनाये रखने की मंशा न रखने वाले विद्यार्थी अभी से स्कूल छोड़ दे तो बेहतर होगा। इस अवसर पर आसंदी द्वारा समस्याओं की जानकारी लेने पर बतलाया गया कि उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में प्राचार्य सहित स्वीकृत रसायन, भौतिकी व हिंदी के व्याख्याता व चपरासी के 3 पद रिक्त है व शासन द्वारा सलग्नीकरण न करने संबंधी स्पष्ट आदेश के बावजूद भी यहां पदस्थ अंग्रेजी के एक व्याख्याता को आरंग के अरूंधति देवी उच्चतर माध्यमिक शाला में कुछ दिनों पूर्व ही संलग्न कर दिया गया है। इसी तरह पूर्व माध्यमिक शाला में स्वीकृत पदों में से 3 शिक्षकों के पद रिक्त होने की जानकारी देते हुये बताया  कि हिंदी, अंग्रेजी व सामाजिक विज्ञान के शिक्षक नहीं है। प्राथमिक विद्यालय में विद्यार्थियों के दर्ज संख्या के मान से 3 शिक्षकों की आवश्यकता ठहराते हुये बतलाया गया कि इस विद्यालय में पदस्थ एक सहायक शिक्षक एल बी को संकुल समन्वयक बना दिया गया है जिसकी वजह से वह विद्यार्थियों को पढ़ाई करवा पाने में असमर्थ है। पूर्ववत् ग्रामीण सहयोग से ग्रामीण व्यवस्था के तहत शिक्षक की व्यवस्था की मांग किये जाने पर इस संबध में ग्रामीण सभा की बैठक में निर्णय लिये जाने व इसके पहले शासन – प्रशासन का ध्यान इस ओर आकृष्ट कराने व आवश्यकता पड?े पर तालाबंदी सहित आंदोलनात्मक कदय उठाने से भी परहेज नहीं करने की मंशा उपस्थित कई ग्राम प्रमुखों ने की पर इस संबध में अंतिम निर्णय ग्रामीण सभा की बैठक में ही लिये जाने की बात कही। धन्यवाद ज्ञापन प्रभारी प्राचार्य नितेश पाण्डेय ने की व कार्यक्रम का संचालन तथा मुख्यमंत्री के संदेश का वाचन व्याख्याता सोहित वर्मा ने किया। इस अवसर पर पूर्व माध्यमिक शाला के प्रधानपाठक नाथूराम वर्मा व प्राथमिक शाला के प्रधानपाठक रामावतार शर्मा सहित शाला परिवार के सदस्य तथा ग्रामवासी मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *