उत्तर प्रदेश

बसपा में मंडल खत्म कर जोन व्यवस्था लागू, प्रदेश प्रभारी हटाए, निकाय कमेटी गठित

लखनऊ
 बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक बार फिर संगठन में व्यापक फेरबदल किया है। मंडलीय व्यवस्था को समाप्त करते प्रदेश को छह भागों में बांटते हुए तीन-तीन मंडल का एक जोन बनाया है। प्रत्येक जोन में दो-दो मुख्य जोन इंचार्ज बनाए गए हैं। इसके साथ ही प्रदेश प्रभारी का पद भी समाप्त कर दिया गया है। बसपा सुप्रीमो ने गुरुवार को मंडल प्रभारियों की बैठक बुलाई थी। इसमें संगठन के विस्तार को लेकर दी गई जिम्मेदारियों की चर्चा की गई। बसपा में अभी तक मंडलीय व्यवस्था थी। इसमें तीन प्रभारी हुआ करते थे। मायावती को सीधे फीडबैक देने के लिए मुनकाद अली, राजकुमार गौतम और विजय प्रताप तीन प्रदेश प्रभारी बनाए गए थे। ये सभी व्यवस्थाएं समाप्त कर दी गई है।

नई व्यवस्था में तीन मंडल पर एक जोन इसमें दो मुख्य जोन इंचार्ज और प्रत्येक मंडल पर तीन से पांच प्रभारी बनाए गए हैं। मंडल स्तर पर यह काम देखेंगे और मुख्य जोन इंचार्ज को इसकी सूचना देंगे। मुख्य जोन इंचार्ज मायावती को सीधे रिपोर्ट करेंगे।

किस जोन का कौन प्रभारी
गोरखपुर, बस्ती व देवीपाटन- दिनेश चंद्र, सुधीर भारती, अयोध्या, वाराणसी, आजमगढ़- शमसुद्दीन राइन, मदन राम, मेरठ, सहारनपुर, मुरादाबाद- नौशाद अली, राजकुमार गौतम, आगरा, अलीगढ़, बरेली- मुनकाद अली व सूरज पाल सिंह, कानपुर, झांसी, चित्रकूट- विजय प्रताप, बीबी अंबेडकर और लखनऊ प्रयागराज व मिर्जापुर- घनश्याम चंद्र खरवार व अखिलेश अंबेडकर को जिम्मेदारी दी गई है।

निकाय कमेटियों का गठन होगा: चुनाव को देखते हुए सभी निकायों में कमेटियों के गठन का निर्देश दिया गया है। इसमें सभी वर्गों को रखा जाएगा। इसके आधार पर ही उम्मीदवारों का पैनल तैयार करते हुए पार्टी मुख्यालय को उपलब्ध कराया जाएगा। क्षेत्र में मजबूत पकड़ वाले को ही उम्मीदवार बनाया जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *